रविवार, 8 अगस्त 2010

विभूति नारायण राय का अवसरवाद

महात्मा गाँधी अंतर्राष्ट्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति भाई विभूति नारायण राय ने महिला साहित्यकारों को छिनाल कह दिया ।

इस मुद्दे पर महिलाओं को ही नहीं अपितु प्रत्येक विवेकशील का उत्तेजित होना स्वाभाविक है ।

कथित प्रगतिशील साहित्यकार कब दुर्गतिशील आचरण करने लगेंगे . जान पाना मुश्किल है । अज्ञेय . धर्मवीर भारती . अमृता प्रीतम . इस्मत चुगताई सहित अनेक साहित्यकार की जीवन कथा इसी व्यथा का संदेश है ।

राय ने किन महिला साहित्यकारों को लक्ष्य करके यह कहा . उनका मानस ही जानता होगा । उनका यह कहना कि आजकल महिलाओं मे एक दूसरे से आगे बढ़कर अपने को छिनाल सिद्ध करने की होड़ लगी है ।

हम यह नही समझ पा रहे हैं कि राय ने यह क्यों नही कहा कि पुरुष साहित्यकार एक दूसरे से बढ़कर महिलाओं को साहित्य मे स्थापित करने हेतु समर्पित हैं ।

कपिल सिब्बल एवं साहित्यकारों के घोर विरोध के चलते फिलहाल कुलपति की कुर्सी जाती देख राय ने माफी माँग ली ।
यही अवसरवाद है ।

18 टिप्‍पणियां:

पी.सी.गोदियाल ने कहा…

मस्तिष्क में
है पंक भरा,
और
प्रज्ञता का दम भरते है!
इनको
साहित्यकार कह के,
हम
साहित्य का अपमान क्यों करते है ?

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

सच कहा, यह अवसरवाद ही है।

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

पुरुष साहित्यकार एक दूसरे से बढ़कर महिलाओं को साहित्य मे स्थापित करने हेतु समर्पित हैं ।

यानि कि महिलायें स्वयं साहित्यकार नहीं बन सकतीं ..बिना पुरुष की मदद के ? क्या हर जगह पुरुषों का ही वर्चस्व है ?

अवसरवाद तो समझ आया ...लेकिन यह बात समझ से परे है ...

अरुणेश मिश्र ने कहा…

आदरणीया बहन संगीता जी . सादर अभिवादन ।
मेरे कथन को आपने अन्यथा लिया । कुछ कथित साहित्यकारों ने महिलाओं को साहित्य या मंच पर स्थापित करने का ठेका ले रखा है । यह लोग महिलाओँ का बहुआयामी शोषण करते हैं । भरमाते हैं . सब्जबाग दिखाते हैं ।
जो महिलाएँ प्रखर एवं मेधावान हैं . उन्हे किसके शब्दजाल मे फँसने की आवश्यकता ?

arvind ने कहा…

yeh dukhad hai. achhe saahityakar se aisi asha nahi ki jaati.

aapke vichar se sahmat hun.

राजभाषा हिंदी ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति।
राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

Babli ने कहा…

बिल्कुल सही कहा है आपने! मैं आपकी बातों से पूरी तरह सहमत हूँ! उम्दा प्रस्तुती!

Virendra Singh Chauhan ने कहा…

Sir ji....AAp lumbe samay tak kuchh post hi nahin karte. zara jaldi-jaldi post dala kijiye.

Aapke विभूति नारायण राय ke vishay men aapke vichaar se main puri tarah sahmat hun.

विभूति नारायण राय ji ki 'Chhinaal' vaali tippadi ghore nindaniye hai.

AAsha hai ki aage koi bhadrajan aisi baat nahin karegaa.

अरुणेश मिश्र ने कहा…

नया ज्ञानोदय की इस अंक को भारतीय ज्ञानपीठ ने बाजार से वापस ले लिया है । भाई रवीन्द्र कालिया ने इस विवाद के लिए क्षमा माँगी ।
साहित्यकारों निरंकुश न बनो ।

Dimpal Maheshwari ने कहा…

आपकी टिपण्णी के लिए आपका आभार

अग्निमन ने कहा…

its realy wonder full

sachi bat kahi hai ham aap ko dil se prnam karte hai

Sonal ने कहा…

bahut sundar....

Meri Nayi Kavita par aapke Comments ka intzar rahega.....

A Silent Silence : Zindgi Se Mat Jhagad..

Banned Area News : Congress cautions workers to retire from fray

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

ray ki rai theek nahi.....

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

आज तक यह सुना था की हर सफल पुरुष के पीछे एक स्त्री का हाथ होता है. यहाँ तो लोग स्त्री को केन्द्र बिंदु बना कर पुब्लिसिटी पाना चाहते हैं....कितना ऊपर उठ चुके हैं लोग.

misir ने कहा…

striyon ko chhinaal kahne walon
par aapne pratikriya kee,
ab unhen chhinal karne walon
par kuchh kahe.

misir ने कहा…

striyon ko chhinaal kahne walon
par aapne pratikriya kee,
ab unhen chhinal karne walon
par kuchh kahe.

दिगम्बर नासवा ने कहा…

आज का युग अवसरवादिता का ही है ...

arun c roy ने कहा…

राय जी तो कह के चले गए लेकिन हमने उसे इतना मथ दिया है कि अब घिन आ रही है... आपने सही कहा कि पुरुष साहित्यकार ही महिलाओं को स्थापित करने की होड़ में लगे है.. अब राय जी से कहा जाय कि ऐसे साहित्यकारों को क्या कहेंगे वे... अवसरवादिता ही है कि उन्होंने माफ़ी मांग ली... ए़क संक्षिप्त किन्तु बेबाक आलेख के लिए आपका धन्यबाद