शुक्रवार, 11 जून 2010

हम तो हैँ कफनचोर राजा ! जनता से कह दो - प्रणाम करें ।

गैस काण्ड होते हैं

होने दो ।

पीड़ित जन रोते हैं

रोने दो ।

मरने दो . त्राहि त्राहि

करने दो ।

हमको निर्द्वन्द राज्य

करने दो ।

अर्जुन हम अपने को
कहते
लेकिन दुर्योधन का
काम करें ।
हम तो हैं कफनचोर
राजा !
जनता से कह दो
प्रणाम करें ।

इण्डरसन के ही हम

सन हैं ।

अपने गुलाम अभी

मन हैं ।

जनता से अपना क्या

रिश्ता ?

अमेरिका अपना

फरिश्ता ?

आओ ! हत्यारों के
साथ रहें .
जनता के कष्ट बनें .
नाम करें ।
हम तो हैं कफनचोर राजा !
जनता से कह दो
प्रणाम करें ।

हम तो जयचन्द

आदिकाल के ।

सबके मुँह बन्द .

हमे पाल के ।

मगरमच्छ नदियों के .

ताल के ।

हम ही पर्याय यहाँ

काल के ।

जनता मर जाय .
देश मिट जाए
फिर भी हम जेबों मेँ
दाम भरेँ ।
हम तो हैं कफनचोर
राजा !
जनता से कह दो
प्रणाम करें ।

41 टिप्‍पणियां:

अरुण 'मिसिर' ने कहा…

गजब की व्यंग रचना
सही समय पर ,सही
जगह पर किया सही
प्रहार।
यह रचना किसी
कारनामेँ से कम नहीँ।
बहुत बधाई

kshama ने कहा…

Bahut man karta hai,sadak pe utar aaun aur satyagrah shuru kar dun..asptaal me padi hun,kaise karun?
Santap ki lahar mastishk me daud jati hai,jab desh ke yuva America daude jate hain..!

RAJENDRA ने कहा…

बहुत सही कहा कफ़न चोर अभी भी घात लगाये बैठे हैं क्या कर लेगी जनता बेचारी चोरों की जमात में मुखोटा ईमानदारी का होना चाहिए सो है दयालुता का होना चाहिए सो भी है

RAJENDRA ने कहा…

बहुत सही कहा कफ़न चोर अभी भी घात लगाये बैठे हैं क्या कर लेगी जनता बेचारी चोरों की जमात में मुखोटा ईमानदारी का होना चाहिए सो है दयालुता का होना चाहिए सो भी है

सम्वेदना के स्वर ने कहा…

सही थूका है आपने, इन कफ़न चोरों के मुंह पर..पर ये इतने बेशरम हैं कि मुंह पोंछकर फिर खड़े हो जायेंगे सामने..

बेचैन आत्मा ने कहा…

इस जरूरी व्यंग्य के लिए आपको भी प्रणाम.
दरअसल लोग इतने बेशरम हो गये हैं कि व्यंग्यकार भी परेशान हैं कि इनके लिए शब्द कहाँ से लाएं !! ये तो गाली सुनकर भी हें..हें..हें..हें करते हैं... !!

मो सम कौन ? ने कहा…

ये पांच साल में एक बार प्रणाम कर देते हैं, उसकी पूर्ति अगले चुनाव तक नहीं होती।

@kshama ji:
-----------
मोहतरमा, आप अपने स्वास्थ्य की तरफ़ ध्यान दें। आपके सत्याग्रह से किसी के कान पर जूं नहीं रेंगेंगी। पिछले जाने कितने साल से वो मणिपुरी लड़की बेचारी भूख हड़ताल पर है, सुनी है किसी ने?

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

सचमुच यह कफनचोर जयचन्द ही हैं!

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत सही!

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी ने कहा…

अच्छी प्रस्तुति........बधाई.....

सुमित प्रताप सिंह ने कहा…

आपकी यह कविता धाँसू लगी.बधाई स्वीकारें...

दिगम्बर नासवा ने कहा…

धो धो कर व्यंग मारने में आपका जवाब नही ... बहुत करारा व्यंग .. पर इन नेताओं को शरम नही आएगी ..

वीथिका ने कहा…

होश में ला देने वाली रचना
व्यवस्था के मुह पर करार तमाचा
सच्चाई से परिपूर्ण कफ़न रहित नग्न
रचना के लिए ह्रदय से साधुवाद

प्रज्ञा ने कहा…

बहुत तीखा व्यंग्य लिखा है सच में ये लोग कफ़न चोर हैं दूसरों का हक मारना इनकी नस नस में रक्त के साथ बहता है .. बधाई ...

अग्निमन ने कहा…

sachi kitana sahi chitrath kiiya hai ...aaj ki parivesh ki sachi bat boli hai .......

yaha rachna apne me adbhut hai

अग्निमन ने कहा…

sachi kitana sahi chitrath kiiya hai ...aaj ki parivesh ki sachi bat boli hai .......

yaha rachna apne me adbhut hai

Mired Mirage ने कहा…

गजब की रचना है।
घुघूती बासूती

M.A.Sharma "सेहर" ने कहा…

hmm...sochne par mazbuur ..teekha vyang ...

रचना दीक्षित ने कहा…

ये बहुत बेशर्म हैं,इन पर थूक दो पर अपना मतलब हो तो वो उसे चाट भी लेंगे

ritu ने कहा…

Bahut zordar vyangy .neta bahut beshram hain .

arvind ने कहा…

अर्जुन हम अपने को
कहते
लेकिन दुर्योधन का
काम करें ।
हम तो हैं कफनचोर
राजा !
जनता से कह दो
प्रणाम करें ।
......गजब की व्यंग रचना
सही समय पर ,सही प्रहार।
बहुत बधाई

ज्योति सिंह ने कहा…

जनता मर जाय .
देश मिट जाए
फिर भी हम जेबों मेँ
दाम भरेँ ।
हम तो हैं कफनचोर
राजा !
जनता से कह दो
प्रणाम करें ।
ati sundar kamaal ki rachna

डा. हरदीप सँधू ने कहा…

अर्जुन हम अपने को
कहते
लेकिन दुर्योधन का
काम करें ....
बहुत सही कहा .....

Anand ने कहा…

Bahut hi badhiya post sir ji.

Amitraghat ने कहा…

बहुत सही और करारा व्यंग लिखा है आपने अरूणेश जी ..."

आचार्य जी ने कहा…

प्रभावशाली लेखन।

आचार्य जी ने कहा…

आईये जानें ..... मैं कौन हूं !

आचार्य जी

Basanta ने कहा…

आक्रोश और ब्यंग्यका सशक्त प्रस्तुति!

Prem Farrukhabadi ने कहा…

kavita ka tartamy kamaal ka bas padhte hi chale gaye .badhhai!!

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

Hum toa hain kafan chor raja
janata ko kaho hume pranam karen
gajab ka tmacha lagaya hai sarkar ko.

ज्योत्स्ना पाण्डेय ने कहा…

शब्दों के जूते भाव में भिगो कर मरते हैं आप .....
सामायिक व्यंग्य, प्रभावशाली रचना!

अभिवादन के साथ शुभकामनाएं.......

Saumya ने कहा…

इण्डरसन के ही हम
सन हैं ।.....bauhat acchi prastuti....aapkaa aakrosh saaf jhalak raha hai...

Apanatva ने कहा…

yatharth aur katu saty ko ujagar karatee ek sashakt rachana...........

सम्वेदना के स्वर ने कहा…

पंडित जी! बहुत लम्बा हो गया मौन आपका...अब मौन तोड़िए...हमारी एक ग़ज़ल आपके अशीष की प्रतीक्षा कर रही है...

सम्वेदना के स्वर ने कहा…

हमारी शुभकामनाएँ नए कार्यभार के लिए!!!

आदेश कुमार पंकज ने कहा…

बहुत सुंदर भाव है

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

कड़वी सच्छायी और तीक्ष्ण कटाक्ष....बहुत अच्छी प्रस्तुति

ekal ने कहा…

अर्जुन हम अपने को
कहते
लेकिन दुर्योधन का
काम करें ।
हम तो हैं कफनचोर
राजा !
जनता से कह दो
प्रणाम करें ।
kya khub hai shabdo ke darpan me khud ki surat....

Sanjay Bajpai ने कहा…

Ek utkrisht koti ki vyangya rachna. Jawab nahi.

Sanjay Bajpai ने कहा…

"Janta se apna kya rishta,
Amrika apna farishta"
Utkrisht vyangya rachna! Jawab nahi.

Divya ने कहा…

इण्डरसन के ही हम

सन हैं ।

अपने गुलाम अभी

मन हैं ।

जनता से अपना क्या

रिश्ता ?

A wonderful creation, showing mirror to the corrupt system.