मंगलवार, 22 जून 2010

शार्टकट : दानवता सत्तासीन

ओ मेरे मन !

कोई शार्टकट मारो ।

किसी महापुरुष की

आरती उतारो ।

कोई ऐसा स्विच दबाओ

धरती को ठोकर मारकर

आसमान चढ जाओ ।

उल्लुओं को सूर्य

जाने कब से लग रहा है

दृष्टिहीन ।

आदमी की शक्ल में

मशीन ।

औपचारिकता

घर घर आसीन ।

कृत्रिमता पदासीन ।

मानवता उदासीन ।

दानवता सत्तासीन ।

40 टिप्‍पणियां:

sanu shukla ने कहा…

ekdam sateek rachna...bhaisahab..

ajit gupta ने कहा…

अच्‍छी रचना।

sandhyagupta ने कहा…

Har bar ki tarah achchi khabar li aapne.shubkamnayen.

kshama ने कहा…

Danav to hain sattaseen,par kyon hain? Kya hamare samaj me,jiska ham bhi hissa hain, sirf wahi rah gaye hain?

सम्वेदना के स्वर ने कहा…

पंडित जी, जय हो!
क्या खींचा है आपने सीन…
मन सचमुच हुआ है उदासीन...
वर्त्तमान समाज की सच्ची तस्वीर.
आशा है नई जगह और नए पद पर हो गए होंगे सामान्य तौर पर आसीन! पुनः शुभकामनाएँ!!

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

बहुत बढ़िया! जब मानवता उदासीन होगी तब ही दानवता सत्तासीन होगी।

अग्निमन ने कहा…

aap ki kavita bhav adbhud hai kitne asani se sachi bat kahe deta hai...

Saumya ने कहा…

thoughtful composition....and i'm astounded ki itne kam shabdon mein aap kitna gehra vyanga kar dete hain...a must read piece

बेचैन आत्मा ने कहा…

कभी-कभी यूँ भी होता है...

ओ मेरे मन !

कोई शार्टकट मारो ।
..दर्द जब बढ़ जाता है.

Divya ने कहा…

@-मानवता उदासीन ।

This is the actual tragedy !

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

कृत्रिमता पदासीन ।

मानवता उदासीन ।

दानवता सत्तासीन .

बहुत बढ़िया व्यंग...

मो सम कौन ? ने कहा…

अरुणेश जी,
हम नहीं कहेंगे आमीन।

अर्चना तिवारी ने कहा…

सही कहा...अच्‍छी रचना।

Babli ने कहा…

बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ आपने शानदार रचना लिखा है!

दिगम्बर नासवा ने कहा…

औपचारिकता
घर घर आसीन
कृत्रिमता पदासीन
मानवता उदासीन
दानवता सत्तासीन

बहुत लाजवाब कहा है ... मानवता के पतन और दानैवता के उदय का समय ही चल रहा है ...

अरुण 'मिसिर' ने कहा…

वाह,
आपने खीँच दिया
वर्तमान का नंगा सीन।

रंजना ने कहा…

ओह....मंत्रमुग्ध कर लिया आपकी इस रचना ने...प्रशंशा को शब्द नहीं मेरे पास...
अद्वितीय अप्रतिम !!!

Babli ने कहा…

बहुत सुन्दर और सठिक रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! उम्दा प्रस्तुती!

Tripat "Prerna" ने कहा…

wah wah! kya baat hai!!!

Tripat "Prerna" ने कहा…

http://liberalflorence.blogspot.com/
http://sparkledaroma.blogspot.com/

manu ने कहा…

एक शे'र याद आया...

यार बना कर मुझको सीढी तू बेशक सूरज हो जा..
देख ज़रा मेरी भी जानिब , मुझको भी कुछ बख्श जलाल...

manu ने कहा…

चांटा लगाती कविता...

Sanjay Bajpai ने कहा…

Wah Chacha, kya yatharth varnan kiya hai manavata evam danavata ki prasangikata ka! Ati sunder.

Sanjay Bajpai ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
dipayan ने कहा…

"आदमी की शक्ल में

मशीन ।"

क्या व्यंग है। बहुत खूब ।

lokendra singh rajput ने कहा…

बहुत खूब

nivedita ने कहा…

Aruneshji
Thank you so much for visiting my blog and leaving the comment. I do write poems in Kannada, I never thought I will write Hindi poem. My daughter inspired me to write one.
Keep visiting and encouraging me.

psingh ने कहा…

सटीक शब्दों में उत्तम रचना
आभार

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

उल्लुओं को सूर्य

जाने कब से लग रहा है

दृष्टिहीन ।

tikha prahar .....@@

usha rai ने कहा…

दानवता सत्तासीन ।!!!
बिल्किल सही बयाँ है आपका ! सत्ता में राक्षसी प्रवृति समा गई है ! तब मशाल हम साधारण लोंगो के हाथों में है ! यह कविता जाग्रति पैदा करती है ! आभार !

ज्योत्स्ना पाण्डेय ने कहा…

औपचारिकता

घर घर आसीन ।

कृत्रिमता पदासीन ।

मानवता उदासीन ।

दानवता सत्तासीन ।


बहुत ही सहजता से सभी "सीन" व्यंग्य का सीन उपस्थित कर रहे हैं, बहुत बहुत बधाई!

ज्योत्स्ना पाण्डेय ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
Apanatva ने कहा…

ek ek pankti asardaar............sthitee parivartan ke liye sabheeko milkar kadam uthane honge...........jaroorat hai ek shaandar netratv kee.

ज्योति सिंह ने कहा…

achchhi khichai kar dali in shabdo ne ,sundar behad sundar

ज्योति सिंह ने कहा…

उल्लुओं को सूर्य

जाने कब से लग रहा है

दृष्टिहीन ।zabardast

आशीष/ ASHISH ने कहा…

मैंक्या अरुणेश जी,
तुस्सी कित्थों लब लेने हो इद्दा दी कवितायें?
वधिया छत्तर मारे हैं, वो वी भे-भे के!
हिंदी में: अचूक!

अनामिका की सदाये...... ने कहा…

आप भी ऐसा कहेंगे...
मानव मानव का भला भी न सोचेंगे
तो फिर क्या हाल होगा.
सिर्फ रोने से काम न चलेगा
कलम की धार तेज करिये
इसकी नोक से
उन सत्ता-धारियों को
खरोंचे दीजिए..
apne shabdo ka jadu dikhao
switch aisa koi dabao
kritrimta ko door bhagao
danavta ka muh chidao
kalam ka kuchh jadu dikhao.

अरुणेश मिश्र ने कहा…

अनामिका जी . आपका परामर्श स्वीकार है । सुझाव देती रहें ।

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

shandaar.........:)

Virendra Singh Chauhan ने कहा…

I'm speechless...sir.

you are right, sir.