शुक्रवार, 30 अप्रैल 2010

जंगलीकरण

जंगलों को काटकर
बसाए जा रहे हैं गाँव
गाँवों का किया जा रहा है
नगरीकरण
नगरों का सौन्दर्यीकरण
और अब स्थिति
यहा तक आ गयी है
कि सौन्दर्य का
होता जा रहा है
जंगलीकरण ।

31 टिप्‍पणियां:

sangeeta swarup ने कहा…

जंगलों से जंगलीकरण तक सच में कैसी स्थिति है....सूक्ष्म अवलोकन

Yogendra's Blog ने कहा…

व्यंग रचना अत्यंत समीचीन और सराहनीय है
साधुवाद !

बेनामी ने कहा…

wah....wah.....maza aa gaya .

'उदय' ने कहा…

सौन्दर्य का
होता जा रहा है
जंगलीकरण ।
... बहुत सुन्दर, प्रसंशनीय !!!

मनोज कुमार ने कहा…

बहुत अच्छा।

सौन्दर्य का
होता जा रहा है
जंगलीकरण ।

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

और अब स्थिति
यहा तक आ गयी है
कि सौन्दर्य का
होता जा रहा है
जंगलीकरण....

बहुत खूब .....!!

क्या मार मारी है शब्दों की .....वाह ....!!

nilesh mathur ने कहा…

वाह ! क्या बात है, सत्य वचन !

Manoj Bharti ने कहा…

सौंदर्य का जंगलीकरण ...बहुत खूब व्यंग्य है देह से सुंदर होती लेकिन मुल्यों से विचलित होती नई पीढ़ी के लिए ।

usha rai ने कहा…

कि सौन्दर्य का
होता जा रहा है
जंगलीकरण ।!!
बिलकुल सही कहा आपने ! महीन मार करती हुई सार्थक व्यंग्य रचना ! बधाई !

राजीव कुमार कुलश्रेष्ठ ने कहा…

एक बेहतरीन रचना
काबिले तारीफ़
सुन्दर भावाव्यक्ति .साधुवाद
satguru-satykikhoj.blogspot.com

JHAROKHA ने कहा…

kam shabdon men apne bahut kuchh kah diya ---sundar rachana.

अनामिका की सदाये...... ने कहा…

jangal ke teekhe kaanto se bhi jyada kanteele shabdo ki maar maari hai rachna ke maadhyam se. badhayi.

अरुणेश मिश्र ने कहा…

समस्त विदवानो एवं विदुषियों को उत्साहवर्धक टिप्पणियों के लिए विनम्र आभार । यह रचना 1984 की है .जब नगर मे सौन्दर्यीकरण के नाम पर अतिक्रमण हटाया जा रहा था ।

JHAROKHA ने कहा…

behad sundar prastuti .sachmuchaal shaharon ki sundarta badhane ke liyejangalo ko hi hathiyaar banaya ja raha hai.prabhavshali rachna.
poonam

BODHISATVA ने कहा…

Really nice it shows an image of present social aspect.

बेचैन आत्मा ने कहा…

यह जंगलीकरण भी एक प्रकार की फसल ही है जो मौके बे मौके काटी जाती है ..फिर छोड़ दी जाती है फलने फूलने के लिए!

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

saundaryikaran ka janglikaran..........bahut khub!! kya vyangya kiya hai sir aapne!!

आदेश कुमार पंकज ने कहा…

बहुत सुंदर

kshama ने कहा…

Afsos! Kaisi manhoos haqeeqat hai yah!

Babli ने कहा…

बहुत बढ़िया लगा! आपने शानदार रचना लिखा है जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन ने कहा…

सुन्दर! काल का पहिया...

Asha ने कहा…

संक्षेप में बहुत सटीक रचना |बधाई
आशा

neha ने कहा…

यहा तक आ गयी है
कि सौन्दर्य का
होता जा रहा है
जंगलीकरण...

bahut khubsurt tareeke se apne bhaavo ko darshaya haa........bahut sunder.....

दिगम्बर नासवा ने कहा…

कोई लूट ले जाएगा इस सुंदरता को ... जल्दी ही आ जायगा ये समय ...

रश्मि प्रभा... ने कहा…

ab saundarya raha kahan !
bahut khoob likha hai

Basanta ने कहा…

Beautiful poetry! Effective satire!

अर्चना तिवारी ने कहा…

बहुत सुंदर सराहनीय प्रस्तुति...जंगलीकरण इसे रोका जाना चाहिए

आशा जोगळेकर ने कहा…

बहुत सच्ची औकर सटीक रचना ।

ज्योति सिंह ने कहा…

ye wakai chintajanak baat hai aur gambhir bhi .magar sochna ise sabke liye jaroori hai .jaan hai to jahan .ati uttam .aabhari hoon aapki ,shukriyan blog par aane ke liye .

निर्झर'नीर ने कहा…

अब स्थिति
यहा तक आ गयी है
कि सौन्दर्य का
होता जा रहा है
जंगलीकरण ।

बिलकुल सही कहा आपने , सार्थक रचना !

M VERMA ने कहा…

जंगल से चलकर जंगल तक पहुँचे